फादर्स डे

फादर्स डे
~ कवि मिलन हिम्मतलाल झवेरी

पहले इन्हीं बेटियों ने पिता बना दिया,
फिर नन्ही फरिश्तों ने खुदा बना दिया..
सिखा के मर्द होने के माने मुझको,
आदमी से बढ़कर इंसा बना दिया..

छोटे से मकाँ को आशियां बना दिया,
इन कलियों ने घर को गुलिस्तां बना दिया..
किलकारियों से चहकता है घर का हर कोना,
इन बुलबुलों ने घर को हिन्दोस्तां बना दिया..

पिताजी बाबुजी भूलकर,
डैडी डैडा बना दिया..
मुझ को मैं मे ढूंढकर,
मुझ को मैं लौटा दिया..

जिंदगी का हर इक डे,
इनका ही डे बना दिया..
फादर्स डे को आज हमने,
डॉटर्स डे बना दिया.

Father’s Day
~ Milan Himatlal Zaveri

pahaley inheen betiyon ne pita bana diya,
phir nanhee pharishton ne khuda bana diya..
sikha ke mard hone ke maane mujhako,
aadamee se badhakar insa bana diya..

chhote se makaan ko aashiyaan bana diya,
in kaliyon ne ghar ko gulistaan bana diya..
kilakaariyon se chahakta hai ghar ka har kona,
in bulbulon ne ghar ko hindostaan bana diya..

pitaajee baabujee bhulakar, Daddy Dadaa bana diya..
mujh ko main me dhoondhkar, mujh ko main lauta diya..

Zindagee ka har ik day,
inaka hee day bana diya.. Father’s day ko aaj hamane, Daughter’s day banaa diya.

आज का हाल

Dui mahagyani padh rahe,
Kaa bhaya aaj ka haal
Dui man eka hi baat kahey
Sasura kal hi tha khushhal
Milan #lallantop

दुइ महाज्ञानी पद रहे,
का भया आज का हाल
दुइ मन ए क ही बात कहे
ससुरा कल ही था खुशहाल
~ मिलन #lallantop

#satire #व्यंग #हास्य #humor

खूबसूरती ~मिलन हिम्मतलाल झवेरी

पेशानी पे परेशान सा बल पड़ा हुआ
रुख़्सार पे बेमानी वो तिल जड़ा हुआ
ठुड्डी में धंसा रूठा सेब-ए-ज़कन
लबों के कोने पर मुरझाया ज़ख़्म
ऐब तकते रहते है तेरे मुख़्तलिफ से चेहरे  मे
हमने भला कब तुम्हें खूबसूरत कहा है

#खूबसूरती #kavita #urdushayari #urdupoetry #सुंदरता #shayri #काव्य_कृति #काव्य #बज़्म_ए_शोअरा

शहीद

तुम मौत को भी महबूब बना लेते हो दीवानों,
मर्हबा..तुम जोश-ए-जुनून की हद हो मेरे जवानों,
सलाम-ए-रुख़्सताना शहीदों वतन के शहजा़दाे,
शमा-ए-वतन खुद जल रही है तुम पर ऐ परवानों..

~ मिलन हिम्मतलाल झवेरी

Tum maut ko bhi mehboob banaa letey ho deewaano,
Marhaba.. Tum Josh-e-Junoon ki hadd ho merey jawaano..
Salaam-e-Rukhsatana shaheedo watan ke shehzaado,
Shamaa-e-Watan khud jal rahi hai tum par aye parwaano.
~ Milan Himatlal Zaveri

#IndianArmy #GalwanValley #शहीद #Martyrs #शहीदोंकोनमन #INDIANARMYZINDABAD

The Galwan Valley Martyrs

Corona से Haarona

🌈 Hold on folks …

देर को अंधेर न समझो,
रखना उस पे भरोसा है..
कुछ देर में रात सुला देगा,
कुछ देर में सूर्य परोसेगा,
कुछ देर अंधेरा गहरा है,
कुछ देर में नया सवेरा है..
~मिलन

Der ko andher na samjho,
Rakhna us pe bharosa hai..
Kuch der mei raat sulaa dega,
Kuch der mei surya parosega,
Kuch der andhera gehra hai,
Kuch der mei naya savera hai.

#CoronavirusIndia #Corona #hope #worldsgonemad #Faith

CORONA से HAARONA

आईना झूठ बोलता है

Aaina jhooth bolta hai

~ कवि मिलन हिम्मतलाल झवेरी

कहते है आईना देखता है तो झूठ नहीं बोलता,
कहते तो यह भी है कि ईश्वर सब कुछ देख रहा है..

Kehte hai aaina dekhta hai to jhooth nahi bolta,

Kehte to yeh bhi hai ki ishwar sab kuch dekh raha hai..

आइने के झूठ को अपनी आँखों से देख रहा हूँ मैं,
चेहरे पर सजे कमाये हुए सुकून का खून होते देख रहा हूँ मैं..

Aaine ke jhooth ko apni aankho se dekh raha hoon mai,

Chehre par sajey kamaaye huey sukoon ka khoon hotey dekh raha hoon mai..

कहता है होंठो को दोतरफा खींच लेने मात्र से हंसी नहीं होती,
अब तक कमबख्त सीखा नहीं आईना के दुनियादारी के दंगल में उतरने के बाद से मेरी हंसी कुछ ऐसी ही है..

Kehta hai hoto ko dotarfa kheench lene matr se hansi nahi hoti,

Ab tak kambakht seekha nahi ke duniyadari ke dangal mei utarne ke baad se meri hansi kuch aisi hi jai

कहता है उम्र के आलावा जिंदगी भी गुज़र गयी है मेरे चेहरे से,
मेरी झुर्रियों ने मुझे पुख्ता, अनुभवी नहीं, सिर्फ नादाँ बुढ़ा बनाया है..
झूठा है आईना.. उसको मेरे बचपन के गुज़रने का पता ही नहीं लगा..

Kehta hai umr ke alava zindagi bhi guzar gayi hai mere chehre se,

Meri jhurriyo ne mujhe pukhta, anubhavi nahi, sirf naadan buddha banaya hai..

Jhootha hai aaina.. Usko mere bachpan ke guzarne ka pataa hi nahi lagaa..

जो कुछ चाहिए था सब हासिल किया है जिंदगी से,
फिर भी कहता है मेरी नज़रे उसके आर पार देखती है .. मानो परे कुछ और ढूँढती है जिंदगी से .. झूठा कहीं का..

Jo kuch chahiye tha sab haasil kiya hai zindagi se,

Phir bhi kehta hai meri nazrei uske aar paar dekhti hai.. Mano parey kuch aur dhoondti hai zindagi se.. Jhootha kahin ka..

जुल्फि़ मस्तक को छोड़ पीछे क्या चली गई साहब,
झूठा कहता है ज़िंदगी ने भी मुझको पीछे छोड़ दिया..

Julfi (hairline) mastak ko chhod peeche kya chali gayi saahab,

Jhootha kehta hai zindagi ne bhi mujhe peeche chhod diya..

ठुड्डी जो तीखी तनी सी रहती थी मेरी, अब सिकुड़ के कुछ मुर्झा सी गई है..
तो क्या हुआ? उम्र के साथ चेहरे मे बदलाव आना स्वाभाविक है .. है ना?
पर ये झूठा आईना कहता है कि मेरी मुर्झाइ हुई ठुड्डी उम्र का नहीं, उम्र से.. जिंदगी से.. अपने आप से किए गए समझौतों का हस्ताक्षर है..

Thuddi jo teekhi tanee si rehti thi meri, ab sikud ke kuch murjha si gayi hai,

To kya hua? Umr ke saath chehre me badlaav aana swabhavik hai.. Hai na?

Par ye jhootha aaina kehta hai ki meri murjhaai hui thuddi umr ka nahi, umr se.. Zindagi se.. Apne aap se kiye gaye samjhauto ka hastakshar hai..

सच तो यह है कि आईना झूठ बोलता है और मैं सच कहता हूं..
और यदि मैने इस सच के अलावा कुछ और मान लिया तो मैं हार जाऊँगा.. आईना जीत जाएगा.. नहीं नहीं.. मैं हारना नहीं चाहता.. मैं हारना नहीं चाहता.. आईना झूठ ही बोलता है.. बस.

Sach to ye hai ki aaina jhooth bolta hai aur mai sach kehta hu..

Aur yadi maine is sach ke alawa kuch aur maan liya to mai haar jaoonga.. Aaina jeet jaayega.. Nahi nahi.. Mai haarna nahi chahta.. Mai haarna nahi chahta..Aaina jhooth hi bolta hai.. BAS.

निखार

प्रश्नोत्तर से परे बातें होने लगे,
तभी तो रिश्तों के माने होने लगे..
सिकुड़ के कली जब खिलने लगे,
तभी तो भँवर दीवाने होने लगे..

Twilight

ए खुदा मुझे वो हंसी दे दे,
जो उस वक़्त चेहरे पे सजे..
तन को जब मौत आए,
रूह को जब साँस आए..
~ milan

BAARISH kya keh gayi – by Milan Himatlal Zaveri

BAARISH

Jo hansi na ruki,
jo khushi na thami,
Jo Poori hui farmaish,
Vo khushiyo waali baarish,
Lo boond boond beh gayi..
Ye baarish kya kya keh gayi.

Jo gam na ghata,
Jo aah na uthi,
Jo reh gayi dil mei qhwaish,
Vo dard se bojhal baarish..
Lo boond boond beh gayi.
Ye baarish kya kya keh gayi.

Bachhe jisme khelte hai,
Premi jisme machaltey hai,
Ameer jisme behaltey hai,
Gareeb usiko jheltey hai..
Apni apni hai guzaarish,
Vo jhumne jhelne ki barish,
Lo boond boond beh gayi..
Ye baarish kya kya keh gayi.

Jiske nal mei paani nahi vo,
Kai dino baad snan kar raha,
Chhat jiski tapak rahi vo,
Nind mebhi dance kar raha,
To disco ke floor pe koi,
Mast rain dance kar raha,
Bas alag alag hai numaish,
Vo nachaane waali baarish,
Lo boond boond beh gayi..
Ye baarish kya kya keh gayi.

Soch raha jaise bhagwaan,
Kyu banaya mainey insaan,
Jo khud ko kho raha hai,
Koi hai upar jo ro raha hai,
Ab Khudai ki hai aazmaish,
Vo umeedo waali baarish,
Lo boond boond beh gayi..
Ye baarish kya kya keh gayi.
Ye baarish kya kya keh gayi.

Paths Are Made By Walking, by Nipun Mehta

Paths Are Made By Walking, by Nipun Mehta.

Previous Older Entries

%d bloggers like this: